A Chocolate Tree Kids Story in Hindi

A Chocolate Tree Kids Story in Hindi

नमस्कार दोस्तों आज हम आपके साथ एक ऐसी कहानी (A Chocolate Tree Kids Story in Hindi) शेयर करने वाले है जिसे पढ़ कर आप लालच करने की नहीं सोचोगे।

बहुत समय पहले किसी शहर में एक बहुत बड़ा घर था उस घर में मुन्नी और उसके मम्मी पापा रहते थे। उनके घर में शांति भाई नाम की एक नौकरानी काम करती थी। एक बार मुन्नी के पापा शाम को घर आए और मुन्नी से बोले।

मुन्नी के पापा – मुन्नी अगले हफ्ते तुम्हारा बर्थडे है। बताओ तुम्हें इस साल अपने बर्थडे पर क्या चाहिए।

मुन्नी – पापा गिफ्ट तो आप हर साल देते हो इस साल में आपसे कुछ अलग गिफ्ट लूंगी।

मुन्नी के पापा – तो बताओ इस बार तुम्हें क्या अलग गिफ्ट चाहिए।

मुन्नी – इस बार में अपने बर्थडे पर अपने फ्रेंड्स को बहुत बड़ी पार्टी देना चाहती चाहती हूं।

मुन्नी के पापा – बस इतनी सी बात मैं तुम्हारे लिए बड़ी सी पार्टी अरेंज कर दूंगा।

मुन्नी की मम्मी ने भी शांतिबाई से कहा कल हम घर पर मुन्नी की बर्थडे पार्टी मनाएंगे तुम भी अपने बच्चों को पार्टी में जरूर लाना उन्हें बहुत अच्छा लगेगा। शाम को पूरा काम खत्म करके शांतिबाई अपने घर लौट गई। घर पहुंच कर शांतिबाई ने अपने बेटे से कहा।

शांतिबाई – गट्टू कल मुन्नी का बर्थडे है इसलिए मालकिन ने तुम्हें कल पार्टी में बुलाया है।

अगले दिन शाम होते ही गट्टू अपनी मम्मी के साथ मुन्नी की बर्थडे पार्टी में पहुंचता है। इतनी बड़ी पार्टी देखकर गट्टू बहुत खुश होता है।

ये भी पढ़े —-  100+ Motivational Quotes in Hindi

गट्टू – इतनी बड़ी पार्टी तो मैंने आज तक नहीं देखी।

इसके बाद मुन्नी ने केक काटा, और सभी ने जमकर केक खाया, गट्टू भी केक खाकर और कोल्डड्रिंक पीकर बहुत खुश था, फिर जब पार्टी खत्म हुई तो मुन्नी ने रिटर्न गिफ्ट में सभी को एक-एक चॉकलेट दी।

मुन्नी – गट्टू मेरी पार्टी में आने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

गट्टू – धन्यवाद मुन्नी।

गट्टू – तुम्हारी पार्टी बहुत अच्छी थी और केक, कोल्ड ड्रिंक भी बहुत स्वादिष्ट थे।

फिर गट्टू चॉकलेट को देखकर सोचने लगा आज तो मैंने बहुत कुछ खा लिया है इस चॉकलेट को मैं कल खाऊंगा, और गट्टू शांतिबाई के साथ अपने घर आ गया।

अगले दिन स्कूल से आने के बाद उसे चॉकलेट की याद आई चलो अब चॉकलेट खाते हैं। लेकिन जैसे ही उसने Chocolate की एक बाइट खाई। उसे वह चॉकलेट बहुत ज्यादा स्वादिष्ट लगी।

गट्टू – यह चॉकलेट तो कल वाले केक से भी ज्यादा स्वादिष्ट है, लेकिन अगर मैं इसे आज ही खा लूंगा तो कल क्या खाऊंगा। नहीं नहीं मैं इसे एक साथ नहीं खाऊंगा बल्कि मैं इसे थोड़ी थोड़ी करके खाऊंगा, और फिर उसने बाकी चॉकलेट को संभाल कर रख दिया।

गट्टू रोज उसमें से थोड़ी थोड़ी चॉकलेट खाने लगा। ऐसे ही कुछ दिन बीत गए अब गट्टू के पास थोड़ी सी चॉकलेट रह गई। गट्टू यह सोचकर बहुत उदास हो गया।

Motivational Quotes पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे।

ऐसे ही उदास मन से अगले दिन स्कूल से लौट रहा था तभी उसे सड़क के किनारे एक जामुन का पेड़ दिखा। पेड़ देखकर उसने सोचा मैं भी इस जामुन की तरह चॉकलेट का पेड़ लगा सकता हूं। बस मुझे बाकी बची चॉकलेट को जमीन में दबा कर उस पर पा नहीं तो डालना होगा।

यह सोचकर वह जल्दी से घर गया और बाकी बची चॉकलेट और एक बोतल पानी लेकर जामुन के पेड़ के पास आ गया ।
वहां उसने एक छोटा सा गड्ढा खोदा और चॉकलेट को उस में रखकर उस पर पानी डाल दिया।

गट्टू मन ही मन सोचने लगा अब तो जल्द ही मेरा भी Chocolate Tree होगा और मैं रोज पेट भर कर चॉकलेट खाऊंगा। और गट्टू यह सोच कर हसने लगता है – हा हा हा हा हा

उसी समय एक बूढ़ा आदमी वहां से गुजर रहा था। गट्टू को यूँ हँसता देख गट्टू के पास आया।

बूढ़ा आदमी – क्या हुआ ऐसे क्यों हंस रहे हो।

गट्टू – अंकल मैं अपने पेड़ के बारे में सोच कर खुश हो रहा हूं।

बूढ़ा आदमी – तुम्हारा पेड़ क्या यह जामुन का पेड़ तुम्हारा है ?

गट्टू – नहीं जामुन का नहीं मैंने यहां जमीन में कुछ चॉकलेट दवाई है। अब यहां मेरा चॉकलेट का पेड़ उगेगा।

बूढ़ा आदमी – क्या?

गट्टू – हाँ अंकल।

बूढ़ा आदमी – हा हा हा हा !!

गट्टू – अंकल आप क्यों हंस रही हो?

बूढ़ा आदमी – मैं खुश नहीं हो रहा बल्कि तुम्हारी बेवकूफी पर हंस रहा हूं।

गट्टू – क्या मतलब?

बूढ़ा आदमी – मतलब यह इस तरह से चॉकलेट का पेड़ नहीं होता और तुमने चॉकलेट के लालच में आकर अपनी बाकि चॉकलेट को भी इस गड्ढे में दबा दिया। हा हा हा

यह सुनकर गट्टू समझ गया कि उसने कितनी बड़ी गलती कर दी है।

गट्टू – यह मैंने क्या किया? लालच में आकर अपनी बाकी बचे चॉकलेट को भी बर्बाद कर दिया। और फिर गट्टू इस बारे में सोच कर रोने लगता है।

तो बच्चो इस कहानी (A Chocolate Tree Kids Story in Hindi) से हमें सीख मिलती है कभी भी लालच नहीं करना चाहिए नहीं तो जो आपके पास है वो भी चला जायेगा !!!!

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*